हाजरा फॉल

0

हाजरा फॉल  जो की वर्षाऋतू  मे अपनी सुंदरता के लिए  प्रसिद्ध  है।  बह रही नदियों  पहाड़ी से नीचे  झरना के रूप मे 4० फीट  ऊपर से गिरकर यह झरना  बनता  है । इसलिए  इसके  चुंबकीय आकर्षण से बंधकर पर्यटक दूर से  चला आता है। नीचे झरना के बाद यह नाला का पानी  झील के रूप  में जमा  होता है।
आप चाहे  तो वहां पर केम्पिंग भी कर सकते है दुर्ग जिले से सटा हुआ हाजरा फॉल का रोमांच इन दिनों बढ़ गया है। अब यहां पर रोप-वे शुरू होगया है। जिसके जरिए फॉल की लहरों के ऊपर से सैलानी एक पहाड़ी से दूसरी पहाड़ी पर जा रहे हैं। पहाड़ियों के बीच के सफर को पार करने में महज तीन मिनट का समय लग रहा लेकिन रोमांच काफी है। हरे-भरे घने जंगल के बीच आपको एक झरना  गिरता हुआ दिखता है और  वही एक चट्टान पर हाजरा फाल  लिखा हुआ भी नज़र आता है । यह सलेकसा की और जाने वाली  राजमार्ग से से 1.5 या 02 km दूर घने जंगल  के अन्दर  है ये गोंदिया जिले में आता है।  सैकड़ों मीटर ऊंचाई पर स्थित झरने से पानी तेजी से नीचे गिरता है। वन पर्यटन व इको टूरिझम की विकास निधि से गत वर्ष ब्रह्मा ब्रिज, मल्टीवाइन रिच, विसेफ ब्रिज तथा कमांडो नेट लगाए हैं। प्रतिदिन 500 से अधिक पर्यटक इस स्थल पर पहुंच रहे हैं।अतिसंवेदनशील नक्सलग्रस्त क्षेत्र में बसा यह हाजरा फाल महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश राज्य के लिए मशहूर पर्यटन स्थल से कम नहीं है।
dhanegava, kopalagada और daladalakuhi तीन नालो का पानी इसमें आता है।  .
बारिश में शुरू के रूप में पानी लाल-पीले रंग मे गन्दा लेकिन शेष दिनों मे दुधिया रूप मे दीखता है ।यह  समीपस्थ और कुछ नज़दीक ही अनेको गुफाये स्थित है  ।इनमे से एक गुफा जिसमे ३०० से भी आधिक व्यक्ति  बैठ  सकते  है समीपस्थ एयरपोर्ट नागपुर / रायपुर है




Leave A Reply

*