माता कौशल्या व राम जी की मंदिर

0

यह मंदिर दुर्लभतम है जैसे पुष्कर में ब्रम्हा जी का अकेला मंदिर है वैसे ही रायपुर के पास कौशल्या माता का अकेला मंदिर स्थित है प्रदेश की राजधानी रायपुर से लगभग 23 कि.मी. दूर चंद्रखुरी गॉव है जिसका प्राचीन नाम चंद्रपुरी है करीब 126 तालाबों वाले इस गांव में माता कौशल्या का मंदिर 7 तालाबों से घिरा है तालाबों से घिरे जलसेन तालाब के बीच प्राचीन द्वीप पर एक ऐसा मंदिर है जहां भगवान श्री राम की माता कौशल्या की प्रतिमा स्थित है और राम जी उनके गोद में विराजमान है स्थानीय लोगो की आस्था है की चंदखुरी ही माता कौशल्या की जन्मस्थली है मंदिर के पुजारी बताते है की जलसेन तालाब से ही माता कौशल्या व राम जी की उभरी हुई प्रतिमा मिली थी जो आठवीं शताब्दी की है पुरातत्व विभाग इसे प्रमाणित नहीं करता है द्वीप में स्थित माता कौशल्या का मंदिर हरियाली एवं मंदिरो से घिरा है भगवान शिव और नंदी की विशाल प्रतिमा यहाँ स्थित है द्वीप के द्वार पर हनुमान जी विराजमान है मंदिर परिसर में ही सीताफल का पेड़ है जहां पर्ची में नाम लिखकर श्रीफल के साथ बांधा जाता है कहा जाता है की ऐसा कर मांगी हुई मन्नत पूरी होती है




Leave A Reply

*