मां महिषासुर मर्दिनी मंदिर

0

देवी मंदिरों में नवरात्रि पर्व धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। सभी मंदिरों में मनोकामना ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किया गया है। मंदिरों में दर्शन के लिए सुबह से ही भक्त पहुंचने लगे है। देवी गीत व जसगीत से वातावरण गुंजायमान हो गया है। हिंदू धर्म में नवरात्रि पर्व पर 9 दिनों तक मां दुर्गा की आराधना की जाती है। इसके पीछे मात्र एक धार्मिक सोच ही नहीं, बल्कि एक महान चिंतन छिपा हुआ है। चैतुरगढ़ में छठवीं को महिषासुर मर्दिनी महामाया मंदिर में माता के भक्त पहुँचते  है। चैतुरगढ़ में मां महिषासुर मर्दिनी मंदिर परिसर में मनोकामना ज्योति व जवारा कलश प्रज्ज्वलित किए गए हैं। यहां नवरात्रि पर दर्शन करने भक्तों का तांता लगा हुआ है। जिले के अलावा रायपुर, रायगढ़, बिलासपुर, रतनपुर, दुर्ग भिलाई, राजनांदगांव और मध्यप्रदेश से भी भक्त दर्शन करने पहुंच रहे हैं। चैतुरगढ़ में मां महिषासुर मर्दिनी मंदिर प्राचीन धार्मिक स्थल है। इसे छत्तीसगढ़ का कश्मीर भी कहा जाता है। जिससे पर्यटन स्थल की सुंदरता और भी बढ़ जाती है। माना जाता है कि मां महिषासुर मर्दिनी की महिला निराली है। मां से मांगी हुई मन्नत पूरी होती है। मां के दरबार से कभी कोई भक्त खाली नहीं लौटा। महिषासुर मर्दिनी के दरबार में चैत्र व कुंवार के अलावा अन्य दिनों में भी भक्त दर्शन करने पहुंचते हैं।




Leave A Reply

*