निःशुल्क उपचार दिलाने के लिए अब सिकलसेल मरीजों का भी बनेगा दिव्यांग प्रमाण पत्र

0

पूरी तरह से निःशुल्क उपचार दिलाने के लिए सिकलसेल मरीजों का अब दिव्यांग प्रमाण पत्र बनाया जाएगा। बीमारी के स्तर के हिसाब से विकलांगता का प्रतिशत तय किया जाएगा। इसकी जिम्मेदारी जिला अस्पताल को दी गई है। शासन से गाइडलाइन आने के बाद उसकी प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। बताया जा रहा है कि सिकलसेल मरीजों को दिव्यांग की श्रेणी में रखने पर काफी समय से विचार चल रहा था। लेकिन कुछ व्यवहारिक दिक्कतों की वजह से केंद्र सरकार स्वीकृति नहीं दे रही थी। अब इससे जुड़ी सभी परेशानी दूर कर ली गई है। शासन ने निर्देश जारी किया है कि सिकलसेल मरीजों का दिव्यांग प्रमाण पत्र जिला अस्पताल में बनाया जाएगा। हालांकि इसकी गाइडलाइन नहीं पहुंची है। इसकी वजह से प्रमाण पत्र बनाने का काम शुरू नहीं किया गया है। गाइडलाइन आते ही आवेदन लेकर तय किए गए समय में प्रमाण पत्र बना दिया जाएगा। सिकलसेल के साथ थैलेसिमिया और हिमोफिलिया से ग्रसित मरीजों का भी दिव्यांग प्रमाण पत्र बनाया जाएगा। दिव्यांग प्रतिशत के आधार पर निःशुल्क उपचार का मापदंड निर्धारित होगा।




Leave A Reply

*