Panchayat Minister gave Solid Answer to the Media for Charging False Allegations.

0

Sub Heading – लोगों को सच का पता था और अब पता चल जायेगा, झूठी मीडिया की बेईमानी और हमारे अजय भईया की सत्यता  –

प्रिय साथियों ,

विगत दिनों मेरे लोक सुराज अभियान में भ्रमण के संबंध में प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया द्वारा बहुत कवरेज दिया गया है। उनके लिए मैं मीडिया को धन्यवाद देता हूँ। लेकिन उक्त भ्रमण के संबंध में प्रसारित खबरों के संबंध में कुछ तथ्य आपके समक्ष रखना चाहता हूँ। जनकपुर, जिला कोरिया की बैठक बेहद खुले में हुई, जिसमें सभी वर्ग के लोग उपस्थित थे। लोरमी की बैठक बंद कमरे में हुई थी जिसमें मीडिया से संबंधित कोई भी उपस्थित नहीं था। लोक सुराज अभियान में जो कुछ भी बातें हुई है इसकी पुष्टि उपस्थित जनमानस एवं वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों से भी की जा सकती है। मैंने किसी भी चिकित्सा महाविद्यालय के किसी भी पद से, किसी तरह का इस्तीफा नहीं दिया हूँ और न ही इस संबंध में कोई प्रशासनिक लांबिग या राजनीति है। इस संबंध में प्रसारित आदेश की प्रतिलिपि आपके अवलोकनार्थ प्रेषित कर रहा हूँ। मेरे इन बातों तथा संलग्न पत्रों के माध्यम से मीडिया से अपेक्षा है कि वह व्यक्ति विशेष पर केन्द्रित न होकर जनहित के लिए चलाये जा रहे लोक सुराज अभियान में पारदर्शिता पूर्ण अपना सहयोग प्रदान करें।

लोक सुराज अभियान के दौरान एक व्यक्ति विशेष पर लगातार मीडिया द्वारा केन्द्रित करना लोकतंत्र के उद्देश्यों से परे है। मीडिया से अपेक्षा है कि वह भी सरकार द्वारा लोकहित में किये जा रहे कार्यों और योजनाओं को जनमानस तक पहुँचाने में सहयोग दे ताकि आम जनता सरकार की इन योजनाओं का लाभ लें सके। मैनें लोक सुराज अभियान में शासन की योजनाओं / कार्यक्रमों, माननीय मुख्यमंत्रीजी की सामाजिक क्षेत्रों में किये गये कार्यों को आम जनता तक पहुँचाने का प्रयास किया है। मीडिया लोकतंत्र का चैथा स्तंभ कहलाता है। मैं मीडिया द्वारा की गई स्वस्थ आलोचना का स्वागत करता हूँ।

माननीय मुख्यमंत्रीजी एवं जनता के आर्शिवाद से मैं जिस जगह काम कर रहा हूँ वहाँ आलोचना स्वाभाविक है, इसे मैं स्वीकार करता हूँ। छत्तीसगढ़ राज्य, माननीय मुख्यमंत्रीजी के निर्देश एवं प्रशासन में प्रगति कर रहा है सभी क्षेत्रों में गुणवत्ता एवं जवाबदेही आया है। माननीय मुख्यमंत्रीजी ने प्रदेश में लोकतंत्र के चैथें स्तंभ (मीडिया) को अधिक विश्वसनीय एवं प्रभावी बनाने के लिए प्रदेश में कुशाभाउ ठाकरे जनसंचार एवं पत्रकारिता विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है। मुझे लगता है कि ऐसे संस्थानों से जहाँ नौजवानों को राजगार मिलेगा वहीं, मीडिया के साथियों की विश्वसनीयता आम जनता में बढ़ेगी एवं संविधान की भावना के अनुरूप चैथा स्तंभ अपना दायित्व अधिक प्रमाणिकता से संपादित करेगा।

आपका अजय चंद्राकर 
==============================================
Ajay Chandrakar जी के द्वारा दिए इस जवाब से अब समय आ गया है कि मीडिया जगत अपने आप में आत्माचिंतन करे।

 

LETTER IMAGE  FullSizeRender  final




Leave A Reply

*